Wednesday, June 5, 2013

चरणामृत सीधे हाथ से ही क्यों लेना चाहिए?







कहते हैं भगवान श्रीराम के चरण धोकर उसे चरणामृत के रूप में स्वीकार कर केवट न केवल स्वयं भव-बाधा से पार हो गया बल्कि उसने अपने पूर्वजों को भी तार दिया। चरणामृत का महत्व सिर्फ धार्मिक ही नहीं चिकित्सकीय भी है। चरणामृत के बारे में एक मान्यता और प्रचलित है वो ये कि चरणामृत हमेशा सीधे हाथ से ही लेना चाहिए।


कहते हैं हर शुभ काम या अच्छा काम जिससे आप जल्द ही सकारात्मक परिणाम प्राप्त करना चाहते हैं वह काम सीधे हाथ से करना चाहिए। इसीलिए हर धार्मिक कार्य चाहे वह यज्ञ हो या दान-पुण्य सीधे हाथ से ही किया जाना चाहिए । जब हम हवन करते हैं और यज्ञ नारायण भगवान को आहूति दी जाती है तो वो सीधे हाथ से ही दी जाती है।


दरअसल सीधे हाथ को सकारात्मक ऊर्जा देने वाला माना जाता है।

आयुर्वेदिक मतानुसार तांबे के पात्र में अनेक रोगों को नष्ट करने की शक्ति होती है जो उसमें रखे ल में आ जाती है। उस जल का सेवन करने से शरीर में रोगों से लडऩे की क्षमता पैदा हो जाती है तथा रोग नहीं होते। इसमें तुलसी के पत्ते डालने की परंपरा भी है जिससे इस जल की रोगनाशक क्षमता और भी बढ़ जाती है। साथ ही सीधे हाथ से चरणामृत लेने पर ईश्वर की कृपा तो प्राप्त होती ही है साथ ही सोच भी सकारात्मक होती है।





1 comment:

  1. Very nice blog.. why don't you check back www.pahariroots.com
    It's a Pahari social network, Pahari directory, Pahari Bazaar... many Paharis are joining Pahariroots.com and you can also share all your information with them.

    ReplyDelete